आप्रेशन गंगा के अंतर्गत करीब 17 हजार भारतीय यूक्रेन छोड चुके हैं

2 मार्च 2022 को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने जानकारी दी कि लगभग 17,000 भारतीयों ने यूक्रेन की सीमाओं को पार कर लिया है।

यूक्रेन से भारतीय नागरिकों के सुरक्षित निकलने वालों की संख्‍या तेजी से बढ रही है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता अरिंदम बागची के अनुसार परामर्श जारी होने के बाद करीब 17 हजार भारतीयों ने यूक्रेन की सीमाएं पार की हैं। इनमें ऐसे भारतीय भी शामिल हैं जिन्‍होंने अपने नाम दूतावास में पहले पंजीकृत नहीं कराए थे। श्री बागची ने कहा कि आप्रेशन गंगा के अंतर्गत उडानों की संख्‍या भी तेजी से बढी है।

15 उडानों में तीन हजार 352 भारतीय स्‍वदेश लौटें हैं। उन्‍होंने कहा कि भारतीय वायुसेना के विमान भी आप्रेशन गंगा में शामिल हो चुके हैं और बुखारेस्‍ट से पहली उडान के दिल्‍ली पहुंचने की संभावना है। उन्‍होंने यह भी कहा कि लगातार जारी हिंसा के चलते पूर्वी यूक्रेन के शहरों की स्थिति चिंताजनक है।

खारकीव और उससे लगे शहरों से अपने नागरिकों को सुरक्षित निकालने के लिए भारत लगातार रूस के संपर्क में है। श्री बागची ने यह भी कहा कि रूस से मिली सूचना के आधार पर ही भारतीय दूतावास ने परामर्श जारी किया। उन्‍होंने खारकीव में फंसे भारतीय नागरिकों को फौरन किसी भी तरह अपनी सुरक्षा के मद्देनजर वहां से पश्चिम की ओर बढने की सलाह दी है। श्री बागची ने यह भी बताया कि वहां जिन भारतीयों के पासपोर्ट खो गए हैं उनके लिए आपात प्रमाण-पत्र जारी किए जा रहे हैं जिससे अनेक भारतीय छात्रों को राहत मिलेगी।

ऑपरेशन गंगा क्या है?

भारत ने यूक्रेन से अपने नागरिकों को घर लाने के लिए ‘ऑपरेशन गंगा’ नाम से एक निकासी योजना शुरू की।

Leave a Comment

Your email address will not be published.