इसरो ने सफलतापूर्वक लॉन्च किया PSLV-C52/EOS-04 मिशन

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने इस साल का अपना पहला रडार इमैजनिंग सैटेलाईट Earth Observation Satellite (EOS-04) को आंध्र प्रदेश के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 14 फरवरी 2022 को सुबह 5.59 बजे सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया गया है l

PSLV-C52/EOS-04 Heat Shield
  • यह प्रक्षेपण आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से पीएसएलवी-सी52 के द्वारा हुआ, यह साल 2022 का पहला प्रक्षेपण अभियान है l
  • इस मिशन के अंतर्गत रडार इमेजिंग EOS-04 को अंतरिक्ष में भेजा गया है 1,710 किलो वजनी EOS-04, अंतरिक्ष में 529 किलोमीटर के सूर्य समकालिक ध्रुवीय कक्षा में चक्कर लगाएगा इसरो ने बताया कि EOS-04 रडार इमेजिंग सैटेलाइट है
  • इस सैटेलाइट का इस्तेमाल पृथ्वी की उच्च गुणवत्ता वाली तस्वीरें लेने में होगा इनसे कृषि, वानिकी, पौधरोपण, मिट्टी में नमी, पानी उपलब्धता और बाढ़ ग्रस्त इलाकों के नक्शा को तैयार करने में सहायता मिलेगा l
  • यह पीएसएलवी (PSLV) की 54वीं उड़ान है इसे 6 पीएसओएस-एक्सएल (स्ट्रैप-ऑन मोटर्स) के साथ पीएसएलवी-एक्सएल कॉन्फिगरेशन का उपयोग करते हुए 23वां मिशन है
  • पीएसएलवी (PSLV) अपने साथ में दो छोटे उपग्रहों को भी ले गया इनमें कोलोराडो विश्वविद्यालय, बोल्डर की वायुमंडलीय एंव अंतरिक्ष भौतिकी प्रयोगशाला के सहयोग से तैयार किया गया भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईएसटी) का उपग्रह इंस्पायरसैट-1 भी शामिल है इस उपग्रह का मुख्य उद्देश्य आयनमंडल के गति विज्ञान एवं सूर्य की कोरोनल ऊष्मीय प्रक्रियाओं की समझ में सुधार करना है
  • दूसरा उपग्रह इसरो का एक प्रौद्योगिकी प्रदर्शन उपग्रह (आईएनएस-2टीडी) है इस उपग्रह को भारत और भूटान के संयुक्त उपग्रह आईएनएस-2वीं के पहले विकसित कर भेजा गया है l

Leave a Comment

Your email address will not be published.