शहीद दिवस 2022 : 23 मार्च

राष्ट्र हर साल 23 मार्च को शहीद दिवस (शहीद दिवस या सर्वोदय दिवस) स्वतंत्रता सेनानियों भगत सिंह, सुखदेव थापर और शिवराम राजगुरु की पुण्यतिथि के रूप में मनाया जाता है, जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए अपना जीवन लगा दिया।

Shaheed Diwas 2022: or Martyrs' Day Observed On 23rd March_40.1
23 मार्च का दिन शहीद दिवस के रूप में क्यों मनाया जाता है?

23 मार्च को हमारे देश के तीन वीरों भगत सिंह, शिवराम राजगुरु और सुखदेव थापर को अंग्रेजों ने फांसी पर लटका दिया था। इन नायकों ने लोगों के कल्याण के लिए लड़ाई लड़ी और इस उद्देश्य के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव कई युवा भारतीयों के लिए प्रेरणा के स्रोत बने हैं। इसलिए, इन तीन क्रांतिकारियों को श्रद्धांजलि देने के लिए, भारत ने 23 मार्च को शहीद दिवस के रूप में मनाया है।

महत्वपूर्ण बाते :
  • राष्ट्र हर साल 23 मार्च को शहीद दिवस (शहीद दिवस या सर्वोदय दिवस) के रूप में मनाया जाता था।
  • स्वतंत्रता सेनानियों भगत सिंह, सुखदेव थापर और शिवराम राजगुरु की पुण्यतिथि के रूप में मनाया जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.