Month: February 2022

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस : 28 फरवरी

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 28 फरवरी 2022 को मनाया जा रहा है ।

यह दिवस हर साल 28 फरवरी को ‘रमन प्रभाव’ की खोज के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। इस दिन, भारतीय भौतिक विज्ञानी सर सी.वी. रमन ने ‘रमन प्रभाव’ की खोज की घोषणा की जिसके लिए उन्हें 1930 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

This image has an empty alt attribute; its file name is NPIC-20222289214.jpg

1986 में, भारत सरकार ने 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में नामित किया। इस दिन का उद्देश्य मानव जीवन में विज्ञान के महत्व और इसके अनुप्रयोग के संदेश को फैलाना है।

इस वर्ष राष्ट्रीय विज्ञान दिवस की थीम है- सतत भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी में एकीकृत दृष्टिकोण। इस अवसर पर पूरे देश में विषय आधारित विज्ञान संचार गतिविधियाँ की जाती हैं।

National Science Day : 28th February

National Science Day being celebrated on 28th February 2022.

The day is celebrated every year on 28th February to commemorate the discovery of the ‘Raman Effect’. On this day, Indian Physicist Sir C.V. Raman announced the discovery of the ‘Raman Effect’ for which he was awarded the Nobel Prize in 1930.

In 1986, Government of India designated 28 February as National Science Day. The day is aimed at spreading the message of importance of science and its application in human life.

This year the theme of the National Science Day is- Integrated Approach in Science and Technology for Sustainable Future. On the occasion, theme-based science communication activities are carried out all over the country.

भारत ने यूक्रेन की स्थिति पर यूएनएससी के प्रस्ताव पर मतदान में हिस्सा नहीं लिया

यूक्रेन संकट के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रखे गए प्रस्ताव पर 26 फरवरी 2022 को मतदान हुआ। 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद के 11 सदस्यों ने इसके पक्ष में वोट किया जबकि रूस ने इसके खिलाफ मतदान किया। भारत, संयुक्त अरब अमारात और चीन ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया। रूस ने इस प्रस्ताव पर वीटो शक्ति का इस्तेमाल करते हुए इसे पारित होने से रोक दिया।


भारत ने अपने बयान में कहा है कि इस संकट का समाधान राजनयिक तरीके से किया जाना चाहिए और सभी देशों की सम्प्रभुत्ता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान होना चाहिए। भारत ने हिंसा और हमले की कार्रवाई पर तत्काल रोक लगाने का आह्वान किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन के साथ टेलीफोन पर बातचीत में उनसे भी यही आग्रह किया था।

भारत ने कहा है कि सभी सदस्य देशों को अंतरराष्ट्रीय कानून और संयुक्त राष्ट्र सिद्धान्तों का पालन करना चाहिए। भारत का मानना है कि संवाद ही विवादों के समाधान का एकमात्र रास्ता है। यूक्रेन में फंसे भारतीय विद्यार्थियों और नागरिकों की स्वदेश वापसी सरकार की तत्काल प्राथमिकता है। भारत यूक्रेन के घटनाक्रम से अत्यधिक चिंतित है।

भारत ने अपना दृष्टिकोण स्पष्ट करते हुए कहा है कि वह दोनों पक्षों के साथ संतुलित और समन्वित तरीके से सम्पर्क में है। भारत ने सभी पक्षो से संवाद शुरू करने का आग्रह किया है।

India abstains from voting on UNSC resolution on situation in Ukraine

On the issue of Ukraine crisis, the vote was taken on 26 February 2022 resolution placed in the United Nations Security Council. 11 members of the 15-member Security Council voted in favor while Russia voted against it. India, the United Arab Emirates and China did not take part in the vote. Russia used veto power on this resolution to block it from being passed.

India has said in its statement that this crisis should be resolved diplomatically and the sovereignty and territorial integrity of all countries should be respected. India has called for an immediate end to the acts of violence and assault. Prime Minister Narendra Modi had made the same request to Russian President Vladimir Putin in a telephonic conversation with him. India has said that all member states must abide by international law and United Nations principles.

India believes that dialogue is the only way to resolve disputes. The repatriation of Indian students and citizens stranded in Ukraine is an immediate priority of the government. India is deeply concerned by the developments in Ukraine.

India has clarified its position and said that it is in touch with both the sides in a balanced and coordinated manner. India has urged all the parties to start dialogue.

मीराबाई चानू ने सिंगापुर भारोत्तोलन अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट में 25 फरवरी को स्वर्ण पदक हासिल किया

मीराबाई चानू ने सिंगापुर भारोत्तोलन अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट में 25 फरवरी 2022 को स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इसके साथ ही मीराबाई चानू ने इस साल बर्मिंघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के लिए क्वालीफाई कर लिया है।

पहली बार मीराबाई ने टूर्नामेंट में 55 किलोग्राम वर्ग में कुल 191 किलोग्राम भार उठाकर शीर्ष स्थान हासिल किया। वही 59 किलोग्राम वर्ग में बिंद्यारानी देवी ने भी स्वर्ण पदक जीतकर राष्ट्रमंडल खेलों के लिए क्वालीफाई किया।

पुरूषों मे संकेत सागर और ऋषिकांत सिंह ने 55 किलोग्राम में राष्ट्रमंडल खेलों के लिए क्वालीफाई कर लिया है। टूर्नामेंट में संकेत ने स्वर्ण और ऋषिकांत सिंह ने रजत पदक जीता।

Mirabai Chanu won gold medal at Singapore Weightlifting International Tournament

Mirabai Chanu won the gold medal in the Singapore Weightlifting International tournament on 25 February 2022. With this Mirabai Chanu has qualified for the Commonwealth Games to be held in Birmingham this year.

Mirabai topped the tournament for the first time in the 55 kg category by lifting a total of 191 kg. At the same time, Bindyarani Devi also qualified for the Commonwealth Games by winning the gold medal in the 59 kg category.

Among men, Sanket Sagar and Rishikant Singh have qualified for Commonwealth Games in 55kg. Sanket won gold and Rishikant Singh won silver medal in the tournament.

Russia Attack on Ukraine on 24 February 2022

Russia has launched a special military operation in the Donbass, the eastern region of Ukraine. Russian forces have entered Ukraine via Crimea. Ballistic missiles were also fired on several cities of Ukraine. Huge explosions were heard in the Ukrainian capital of Kiev and Kharkiv and in other regions of the country. There were also reports of shootings near the airport in the capital Kiev.

In a televised message, President Vladimir Putin urged Ukrainian soldiers fighting the Russian-backed rebels to surrender and return to their homes. Mr. Putin said it was not Russia’s intention to annex Ukraine. Putin warned other countries that if anyone interfered with Russia’s actions, he would retaliate against them. Ukraine has said that Putin has attacked Ukraine with full capacity.

Terming the attacks on the cities as war, Ukrainian Foreign Minister Dimitro Koleba has said that Ukraine will retaliate in its defense and will be successful in its attempt. Ukrainian President Blodimir Zelensky has said that Russia has deployed nearly two million troops and combat vehicles along the Ukrainian border.

US President Joe Biden has strongly condemned Russia’s attack on Ukraine, saying that America and its coalition countries will respond together. Mr. Biden said that the world community will stop this move of Russia. He blamed President Putin for this. Biden said that President Putin has chosen a path of war in a systematic manner, which will cause great loss of human life and increase the suffering of people.

24 फ़रवरी 2022 को रूस ने यूक्रेन पर सैन्य हमला कर दिया

24 फ़रवरी 2022 को रूस ने यूक्रेन के पूर्वी क्षेत्र दोनबास में विशेष सैन्य कार्रवाई की शुरूआत कर दी है। रूस की सेना क्रीमिया के रास्‍ते यूक्रेन में घुस गई हैं। यूक्रेन के कई शहरों पर बैलिस्टिक मिसाइलें भी दागी गई। यूक्रेन की राजधानी कीव और खारकीव और देश के अन्‍य क्षेत्रों में बडे़ धमाके सुनाई दिए। राजधानी कीव में हवाईअड्डे के पास गोलीबारी की भी खबर आई है।

टेलीविजन पर अपने संदेश में राष्‍ट्रपति व्‍लादिमिर पुतिन ने रूस समर्थित विद्रोहियों का सामना कर रहे यूक्रेन के सैनिकों से समर्पण करने और अपने घरों को लौटने का आग्रह किया है । श्री पुतिन ने कहा कि यूक्रेन पर कब्‍जा करना रूस का मकसद नहीं है। श्री पुतिन ने अन्‍य देशों को चेतावनी दी कि अगर किसी ने भी रूस की कारवाई में दखल दिया तो वह उनके खिलाफ जवाबी कारवाई करेगा।

यूक्रेन ने कहा है कि पुतिन ने यूक्रेन पर पूरी क्षमता से हमला कर दिया है। यूक्रेन के विदेशमंत्री दिमित्रो कोलेबा ने शहरों पर हुए हमलों को युद्ध करार देते हुए कहा है कि यूक्रेन अपनी रक्षा में जवाबी कारवाई करेगा और वह अपने प्रयास में सफल भी होगा। यूक्रेन के राष्ट्रपति ब्लोदिमीर जेलेंस्की ने कहा है कि रूस ने यूक्रेन की सीमा पर लगभग 2 लाख सैनिकों और युद्धक वाहनों को तैनात किया है।

Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi (PM-KISAN) Scheme completed 3 years on 24th February 2022

Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi (PM-KISAN) scheme completed 3 years on 24th February 2022. This was launched on 24th of February in 2019  to provide income support to all landholding farmer’s families across the country and enable them to meet expenses related to agriculture as well as domestic needs.

Under the Scheme, an amount of six thousand rupees per year is transferred in 3 equal installments of 2000 rupees directly into the bank accounts of the farmers subject to certain exclusion criteria relating to higher-income status.

The Scheme initially provided income support to all Small & Marginal Farmers’ families having cultivable land up to two hectares, but later it was expanded to cover all farmer families irrespective of the size of their landholdings.

So far, over 1.80 lakh crore rupees have been transferred directly into the bank accounts of the farmer families under the PM -KISAN Scheme.

प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि योजना के तीन वर्ष 24 फरवरी 2022 को पूरे

प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि योजना के 24 फरवरी 2022 को तीन वर्ष पूरे हो गए हैं।

यह योजना देश के सभी किसान परिवारों की आमदनी में मदद के लिए 24 फरवरी 2019 को शुरू की गई थी।

इस योजना के अंतर्गत लाभार्थियों को प्रतिवर्ष छह हजार रूपये की राशि, दो हजार रूपये की तीन समान किस्‍तों में उनके बैंक खातों में सीधे अंतरित की जाती है।

इस योजना के माध्‍यम से दो हेक्‍टेयर भूमि वाले लघु और सीमांत किसान परिवारों की आमदनी बढ़ाने में मदद की जाती है। बाद में सभी किसान परिवारों को शामिल करने के लिए भूमि सीमा की शर्त हटा दी गई।

प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि योजना के अंतर्गत अब तक किसान परिवारों के बैंक खातों में एक लाख अस्‍सी हजार करोड से अधिक की राशि अंतरित की जा चुकी है।